Image description

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को लगा कि उनकी सेना 3-4 दिनों में पूरे यूक्रेन को जीत सकती है, लेकिन यूक्रेन की बहादुर सेना ने इने ऐसा होने नहीं दिया। युद्ध के 9वें दिन (रूस-यूक्रेन युद्ध) में भी रूस को कुछ खास सफलता नहीं मिली और शायद यही वजह है कि अब पुतिन वार्ता के संकेत दे रहे हैं. रूस के राष्ट्रपति ने यूक्रेन के शहरों पर बमबारी के आरोपों से इनकार किया है. उन्होंने यह भी कहा कि अगर उनकी मांगें मान ली जाती हैं तो वह  बातचीत के लिए तैयार हैं।

"सभी पार्टियों  के साथ वार्ता को तैयार'

रूस के राष्ट्रपति कार्यालय क्रेमलिन ने कहा है कि यूक्रेन के शहरों पर बमबारी की खबरें झूठी है. व्लादिमीर पुतिन (व्लादिमीर पुतिन) की यह घोषणा उनके जर्मन चांसलरओलाफ सोल्ज के साथ बातचीत के बाद आया है. पुतिन ने कहा कि यूक्रेन और अन्य बड़े शहरों में यूक्रेन में कीव हवाई हमलों के बारे में रिपोर्टें  एक बहुत बड़ा दुष्प्रचार है. उन्होंने कहा कि यूक्रेन पर बातचीत तभी संभव है, जब उनकी मांगें मान ली जाएं. क्रेमलिन के अनुसार, राष्ट्रपति ने इस बात की पुष्टि की है कि रूस के लिए यूक्रेनी पक्ष और अन्य सभी के साथ वार्ता का विकल्प खुला है, लेकिन शर्त है कि रूस की सभी मांगों को मान लिया जाए.